computer meaning in hindi

कंप्यूटर क्या है? Computer Meaning in Hindi (जरूरी जानकारी)


दोस्तों आपने कंप्यूटर नाम बहुत बार सुना होगा और जब आप कंप्यूटर सुनते हैं तो आपके मन में एक ही विचार आता है कि सामने एक मॉनिटर रखा होगा साइड में सीपीयू और कीबोर्ड माउस जैसी चीजें होंगी, लेकिन अगर आप ऐसा सोचते हैं तो आप गलत हैं, आज के जमाने में आपकी हाथ की घड़ी से लेकर आपका मोबाइल तक एक कंप्यूटर ही है।

दरअसल दोस्तों कंप्यूटर का मतलब हिंदी में संगणक होता है जो की गणना कर सकता है यह एक केलकुलेटर होता है, इस गणना के आधार पर ही इनपुट आउटपुट होता रहता है और कंप्यूटर कमांड के आधार पर चलता रहता है।

आप कीबोर्ड से जो भी टाइप करेंगे वह कंप्यूटर के अंदर झट से टाइप हो जाएगा क्योंकि कंप्यूटर आपकी कमांड को ले सकता है क्योंकि कंप्यूटर आपकी भाषा नहीं समझ सकता इसलिए कंप्यूटर 0 और 1 की भाषा समझता है, इसे बायनरी कहते हैं, सुपर कंप्यूटर में यह अलग तरह से काम करता है हमारे साधारण कंप्यूटर में 0 और 1 की एक कड़ी होती है जोकि मिलकर अलग-अलग शब्दों को बनाती है जिसे कंप्यूटर आसानी से समझ सकता है।


> Ms Word Kya Hai?

कंप्यूटर कैसे काम करता है?

pexels cody berg 463684

दोस्तों कंप्यूटर की कार्यप्रणाली को समझना बेहद कठिन है, लेकिन आप मोटा मोटी अंदाजा लगा सकते हैं कि कंप्यूटर कैसे काम करता है, जिस तरह से इंसानी शरीर में दिमाग होता है। जो पूरे शरीर को कंट्रोल करता है, उसी प्रकार से कंप्यूटर में सीपीयू होता है, सीपीयू यानी कि सेंट्रल प्रोसेसिंग यूनिट, इसे हम प्रोसेसर भी कहते हैं।

सीपीयू का काम इनपुट को लेकर उसमें प्रोसेसिंग करना और फिर आउटपुट जनरेट करना होता है, कंप्यूटर में दो प्रकार के डिवाइस जुड़े होते हैं इनपुट डिवाइस और आउटपुट डिवाइस।
इनपुट डिवाइस वे डिवाइस होते हैं जिनसे कंप्यूटर को इनपुट दिया जाता है, जैसे कीबोर्ड, माउस, प्रिंटर आदि और आउटपुट डिवाइस के रूप में आप मॉनिटर को समझ सकते हैं दोस्तों प्रिंटर भी एक प्रकार का आउटपुट डिवाइस ही होता है क्योंकि प्रिंटर इनपुट और आउटपुट दोनों का काम कर सकता है, प्रिंटर में स्कैनर भी होता है जो इनपुट का काम करता है, और मटेरियल प्रिंटिंग के वक्त वह आउटपुट का काम करता है।

जब भी हम कीबोर्ड से कोई बटन दबाते हैं तो कंप्यूटर को इनपुट मिलता है और सीपीयू में यह प्रोसेस किया जाता है कि हमने कौनसी बटन दबाएं है और उस बटन से क्या कार्य करना है और कंप्यूटर निर्णय लेता है और उस दबाई गई बटन के अनुसार कार्य करता है, (यह पूरा काम सेकंड के कुछ हिस्से में ही निपट जाता है)
जैसे कि अगर आप Spacebar दबाएंगे तो आपके कंप्यूटर में स्पेस बार के अनुसार कार्य हो जाएगा, आप अपने माउस को आगे सरकाएंगे तो कंप्यूटर की स्क्रीन पर एरो यानी कि तीर का निशान आगे की ओर खिसकेगा, क्योंकि कंप्यूटर के अंदर जो ऑपरेटिंग सिस्टम है उसमें यह पहले से सेट किया हुआ है कि किस प्रकार के इनपुट पर क्या आउटपुट देना है, इसी को कंप्यूटर कहा जाता है।

कंप्यूटर की परिभाषा क्या है?

कंप्यूटर की परिभासा बहुत ही आसान और समझहने योग्य है।“कंप्यूटर एक ऐंसी मशीन है जो व्यक्ति द्वारा दी गई इनपुट को समझ कर कार्य करती है“।


कंप्यूटर जानकारियों को इकट्ठा कर सकता है, फिल्टर कर सकता है बहुत बड़े स्तर पर डाटा भेज सकता है और रिसीव कर सकता है, यह कितनी भी बड़ी गणना आसानी से कर सकता है।

यदि  आप  कंप्यूटर के कीबोर्ड पर स्पेस बटन दबाते है, तो कप्यूटर के नोटपैड में स्पेस हो जाता है या स्पेस लग जाता है। इसी तरह अगर आप कीबोर्ड पर कुछ भी टाइप करते है तो वह कंप्यूटर में दिखता है।

Computer v/s Humen Mind

दोस्तों आधुनिक कंप्यूटर को अगर हम इंसानी दिमाग से कंपेयर करें तो आपको क्या लगता है कि कौन जीतेगा, हम यह साफ-साफ कह सकते हैं कि इंसानी दिमाग ही विजेता होगा, क्योंकि कंप्यूटर चाहे कितना भी विकसित हो वह अपने आप से कुछ भी नहीं सोच सकता, उसे इंसानी दिमाग ही कंट्रोल कर सकता है, हां अगर हम गणना करने के मामले में देखें तो कंप्यूटर हम से कहीं अधिक उन्नत है कंप्यूटर एक बड़ी लंबी कैलकुलेशन को सेकंड के कुछ हिस्से में ही कर सकता है, लेकिन हम इंसानों को एक छोटी सी कैलकुलेशन करने में 1 सेकेंड का वक्त कम से कम लगता ही है, और अगर बड़ी कैलकुलेशन की बात आए तो हमें रफ कॉपी के चार पांच पन्ने भरने पड़ते हैं।

तो फिलहाल तो विजेता इंसानी दिमाग ही है, हो सकता है कि भविष्य में वैज्ञानिक कोई ऐसा कंप्यूटर बनाएं जो कि अपने आप से कुछ सोच सके जब कंप्यूटर अपने आप से कुछ सोच पायेगा तब वह इंसानों से कई गुना ताकतवर हो जाएगा, हालांकि इसमें अभी बहुत समय बाकी है फिलहाल के कंप्यूटर इंसानों की बराबरी नहीं कर सकते, लेकिन कई मामलों में कंप्यूटर विजेता होते हैं, जैसे गणना करने के मामले में और लंबे समय तक काम करने के मामले में,
इंसान लगातार चार-पांच घंटे काम करने पर ही थक जाता है लेकिन कंप्यूटर रात दिन साल के 365 दिन तक काम कर सकता है क्योकि कंप्यूटर को थकान महसूस नहीं होती।

तो दोस्तों कैसा लगा आपको यह आर्टिकल, अगर आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो इस जानकारी को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर कीजिए और अगर आपको कुछ समझ नहीं आया है तो आप कमेंट करके हमें बता सकते हैं हम तुरंत रिप्लाई दे कर आपकी प्रॉब्लम का सलूशन आपको देने की कोशिश करेंगे, दोस्तों मिलते हैं किसी नए आर्टिकल में नए टॉपिक के साथ।

जय हिंद, जय भारत।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.