programing kya hai, programing kaise karen

Programming क्या है? प्रोग्रामिंग कैसे करें? 2022


आज के इस आर्टिकल में मैं आपको बताऊंगा कि प्रोग्रामिंग क्या है? और आप प्रोग्रामिंग कैसे कर सकते हैं? दोस्तों आपने यह वर्ड बहुत बार सुना होगा और आपको सुनने में ऐसा लगता होगा कि यह कोई रॉकेट साइंस है और कोई बहुत मुश्किल चीज है लेकिन आपको बता दूं कि आप भी प्रोग्राम में कर सकते हैं, और यह सब बहुत आसान है।

आइए दोस्तों, आर्टिकल को शुरू कर लेते हैं और पूरी जानकारी स्टेप बाय स्टेप ले लेते हैं।

Programming kya hai?

दोस्तों अगर आसान भाषा में समझाने का प्रयत्न करूं तो प्रोग्रामिंग एक ऐसी भाषा होती है जो कि कंप्यूटर को समझाने के लिए हम इस्तेमाल करते हैं, अगर प्रोग्रामिंग को बिल्कुल जीरो से समझना चाहेंगे तो आपको पता चलेगा कि जब शुरुआत में प्रोग्रामिंग लैंग्वेज नई नई बनी थी उस समय इसे जीरो और वन के फॉर्मेट में समझाना पड़ता था, जिसे हम बायनरी फॉर्मेट भी कहते हैं।


धीरे-धीरे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बहुत ज्यादा याद होती गई और आज हम इसके अलग-अलग वेरिएंट भी देखते हैं।

Resume क्या होता है? 5 मिनट में Resume कैसे बनाएं?

जिस प्रकार से मनुष्य एक दूसरे के साथ कम्युनिकेशन करने के लिए किसी भाषा का प्रयोग करता है, ठीक उसी प्रकार से अगर हम कंप्यूटर के साथ कम्युनिकेशन करना चाहे तो हमें प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल करना होगा।

अभी आपके मन में एक प्रश्न और आया होगा कि हम कंप्यूटर के साथ कम्युनिकेशन क्यों करेंगे, दोस्तों आपको बता दूं कि अगर आप कंप्यूटर को कुछ समझाना चाहते हैं या कोई प्रोग्राम बनाना चाहते हैं तो आपको प्रोग्रामिंग लैंग्वेज आनी जरूरी होगी।

कंप्यूटर में बहुत सारे प्रोग्राम आपने देखे होंगे जैसे कि आपके मोबाइल में फिलहाल किसी ब्राउज़र में आप यह आर्टिकल पढ़ रहे हैं यह ब्राउज़र भी कोड करके बनाया गया है और इस कोडिंग को ही हम प्रोग्रामिंग कहते हैं।


प्रोग्रामिंग लैंग्वेज कई प्रकार की होती है जो कि अलग-अलग प्रकार के उपकरणों के लिए बनाई जाती है, इसके प्रकार हम आगे देखेंगे।

Programming kaise karte hai?

दोस्तों जैसा कि आपको पता है कि प्रोग्रामिंग एक क्रिया है, यानी कि एक प्रोग्राम को बनाना ही प्रोग्रामिंग कहलाता है तो एक प्रोग्रामर आखिर प्रोग्राम कैसे बनाता है?

प्रोग्रामिंग कई प्रकार की होती है, जो हम आगे देखेंगे प्रोग्रामर पहले उस प्रोग्रामिंग भाषा को सीखता है और फिर उस भाषा के सिंटेक्स वगैरह को लिखकर कंप्यूटर को कुछ समझाने का प्रयत्न करता है, प्रोग्रामर को जिस प्रकार का सॉफ्टवेयर बनाना होता है, वह उसी प्रकार का कोड लिखेगा और फिर उसे कंपाइलर में कंपाइल करेगा।

इसे आप कुछ यूं समझ सकते हैं कि अगर किसी प्रोग्राम में कोई एंड्राइड एप्लीकेशन बनानी है तो पहले उसे एंड्राइड डेवलपमेंट की भाषा जावा (java) आनी चाहिए, इसके बाद ही वह कंप्यूटर में एंड्रॉयड के लिए कोई प्रोग्राम बना पाएगा, जब वह एंड्रॉयड के लिए प्रोग्राम बनाएगा तब है जावा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का इस्तेमाल करते हुए कंप्यूटर को यह समझाएगा कि आखिर इस एप्लीकेशन का काम क्या होगा और यह किस प्रकार से चलेगी।

Programming language kya hoti hai?

दोस्तों जैसा कि मैंने आपको बताया कि प्रोग्राम में एक भाषा है तो अलग-अलग प्रकार के प्रोग्राम बनाने के लिए हमें अलग-अलग प्रकार की भाषाओं का इस्तेमाल करना होगा प्रोग्रामिंग लैंग्वेज के कई प्रकार होते हैं, जिन्हें हम आगे देखेंगे।

प्रोग्रामिंग लैंग्वेज क्या है? आप इसको कुछ इस प्रकार से समझ सकते हैं कि जिस प्रकार हम एक दूसरे के साथ संप्रेषण करने के लिए भाषा का प्रयोग करते हैं तो अगर आप किसी उपकरण के साथ संप्रेषण करना चाहते हैं तो उपकरण को उपकरण की भाषा में ही समझाना पड़ेगा।

जैसा कि मैंने आपको ऊपर बताया था कि कंप्यूटर केवल 0 और 1 की भाषा को ही समझता है लेकिन इस जीरो और एक की भाषा में अगर हम कंप्यूटर को कुछ समझाना चाहे तो इंसानों के लिए बहुत ही मुश्किल सिद्ध होगा, इसीलिए हमने कुछ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बनाई है जोकि बैकग्राउंड में इस जीरो और एक के सिद्धांत पर ही काम करती है।

Programming language के प्रकार

वैसे तो सभी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज केवल जीरो और एक के सिद्धांत पर ही काम करती है, लेकिन हम इनके काम और सपोर्टिंग डिवाइस के हिसाब से अलग-अलग भागों में बांट सकते हैं जो कि नीचे दिए गए हैं, इसके मुख्य 3 भाग होते हैं।

Machine Language

दोस्तों मशीन लैंग्वेज यह बाइनरी सिस्टम की है जो कि मैंने आपको बताया था कि कंप्यूटर जीरो एक के सिद्धांत पर काम करता है कंप्यूटर में सीपीयू में आपस में जो भी इंटरेक्शन होती है वह इस जीरो और एक किस सिद्धांत पर ही होती है यह कंप्यूटर के लिए समझने में सबसे आसान भाषा मानी जाती है।

Assembly Language

असेंबली लैंग्वेज को आप कुछ इस प्रकार से मान सकते हैं कि कुछ कीवर्ड्स का इस्तेमाल किया जाता है जिनकी वर्ड को कन्वर्ट करके कंप्यूटर जीरो और एक के बायनरी फॉर्मेट में कन्वर्ट कर लेता है और हम कंप्यूटर को समझाने के लिए ऐसे कीवर्ड्स का इस्तेमाल करते हैं।

इसे आप एक प्रकार से सिंबॉलिक लैंग्वेज भी कह सकते हैं।

High Level Language

दोस्तों हाई लेवल लैंग्वेज ऐसी लैंग्वेज होती है जिनको आप सिंटेक्स की मदद से कंप्यूटर को समझाने का प्रयास करते हैं आज के जमाने में java, c, c+ आदि हाई लेवल लैंग्वेज ही है।

यह ऐसी भाषा होती है जिसमें बिल्कुल छोटे-छोटे कीवर्ड्स को मिलाकर कुछ सिंटेक्स बनाए जाते हैं और इन सिंटेक्स के किसी किसी एक सीक्वेंस का एक अलग मतलब होता है जिसे कंपाइलर समझ सकता है, इसलिए इस प्रकार की हाई एंड लैंग्वेज का इस्तेमाल करने के लिए हमें कंपाइलर का इस्तेमाल करना पड़ता है।

FAQ:-

प्रोग्रामिंग सीखने में कितना समय लगता है?

दोस्तों लैंग्वेज सीखने में लगने वाला समय हर एक भाषा के लिए अलग अलग हो सकता है, क्योंकि हर एक प्रोग्रामिंग भाषा का अपना एक अलग काम होता है, और सीखने में कोई भाषा बहुत आसान तो कोई भाषा मुश्किल भी होती है आप जावा जैसी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को 3 से 4 महीने में सिख सकते है।

एक प्रोग्राम में कितने पैसे कमा लेता है?

दोस्तों एक प्रोग्रामर कितने पैसे कमा सकता है इसकी कोई एक संख्या बताना काफी मुश्किल है, क्योंकि यह हर एक भाषा के लिए अलग-अलग होता है और कई लोग और कहीं पर जॉब ना करके खुद के लिए काम करते हैं तो उनका खुद का काम कितना चलता है इस पर भी डिपेंड करता है।

लेकिन अगर आप सैलरी की बात कर रहे हैं तो एक छोटे प्रोग्रामर जिसने आसान भाषा सीखी हो की सैलरी 20 से 30000 महीना होती है, और अगर हाई एंड लैंग्वेज सीखकर कोई प्रोग्राम बड़ी कंपनी में नौकरी करता है, तो यह कुछ लाखों रुपए में हो सकती है।

कुछ प्रोग्रामिंग लैंग्वेज बताओ।

Python, java, c, c+, c++, php आदि प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है।

घर पर प्रोग्रामिंग कैसे सीखें?

यह प्रशन हर किसी के दिमाग में आता है, क्योंकि अगर आप मार्केट में प्रोग्रामिंग सीखना चाहेंगे, तो वहां पर पैसे बहुत अधिक लगेंगे, अगर आप घर पर प्रोग्रामिंग सीखना चाहते हैं तो आप यूट्यूब या कोड विद गूगल जैसे प्रोग्राम का इस्तेमाल करके आसानी से घर पर ही कोई प्रोग्रामिंग भाषा सीख सकते हैं।

Conclusion:-

दोस्तों कैसा लगा आपको आज का यह आर्टिकल, इस आर्टिकल में हमने देखा कि प्रोग्रामिंग क्या है? और मैं आशा करूंगा आपको जानकारी पसंद आई होगी और आप इसे आगे अपने दोस्तों के साथ जरूर साझा करेंगे, अगर आपका कोई क्वेश्चन रह गया है, तो आप कमेंट बॉक्स में कमेंट करके मुझे बता सकते हैं मैं तुरंत रिप्लाई देकर आपके क्वेश्चन का आंसर देने की कोशिश करूंगा।

ऐसी ही अच्छी अच्छी जानकारी के लिए आप हमारी वेबसाइट के दूसरे आर्टिकल्स भी पढ़ सकते हैं, तो दोस्तों मिलते हैं किसी नए आर्टिकल में नई जानकारी के साथ।

जय हिंद, जय भारत।

Leave a Comment

Your email address will not be published.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.